My Expressions

Date : 8 June 2020

  • Educators Speak
  • सुदेश शर्मा


है समय का फेर,  यह सब दोस्तों,

समय बदलने की, देर है बस दोस्तो.

फ़ोन पर ही बात करो अब तुम, अपने चाहने वालों से,

पास नहीं जाना, दूर ही रहो तुम, अपने चाहने वालों से.

आज दूरियाँ हैं तो, कल नजदीक भी आना है,

यहीं सन्देश हमें, जन – जन तक पहुंचाना है.

‘कोरोना’  शत्रु को, हमें हर हाल में हराना है,

अपना  कल हमें, सुनहरा बनाना है.

सभी युद्धवीरों का, हौंसला बढ़ाना है,

पग – पग पर उनका, साथ निभाना है.

हौंसला सबका, बुलंद हमें बनाना है,

अपने साथ – साथ, दूसरों को भी बचाना है.

‘नमस्ते इण्डिया’   को अपनाना है,

भारतीय संस्कृति को, आगे बढ़ाना है.

ना हरा सकता है  कोई हमें, ना कभी हारेंगे हम,

सपूत हैं भारत माता के, आँचल ना मैला होने देंगे हम.

कुछ और दिन रहना है संभल के, मौत के इस अंधियारे से,

अंधेरी रात भी  यह छंट जाएगी, हिम्मत के उजियारे से.

साहस और  हिम्मत की कमी नहीं है,  भारत के जनमानस में,                    

आइए फर्ज निभाएं मिलकर, इस फैली महामारी में,           

जयहिंद ! जय भारत !

 

सुदेश शर्मा

हिन्दी अध्यापिका
दिल्ली पब्लिक स्कूल, सोनीपत

Image Credit: Riya Bendre, Grade 6, St Stephens School, Mumbai
Partner: Muqaam Foundation

Recent Post (1408)

View More
Follow us