Curious logo
 

My Expressions
Rules for Post Submission

माँ

मैं तो गिर ही गई थी,
तुमने संभाला है मां।
ज़िंदगी के हर मोङ,
पर हाथ है तुमने थामा।

मुझे नही है समझ,
इस बेरहम समाज की।
हर उठी उँगली से ढाला मुझे,
हर आवाज़ ललकार दी।

होती न अगर तुम,
इस जग में मेरी रक्षा हेतु,
रह जाती मैं निष्क्रिय,
हे अंबे! इस संसार में।

करती हूँ मैं धन्यवाद उस बैकुंठ के स्वामी का, बेटी बनाकर भेजा तुम्हारे आंगन में, मेरा ही भाग्य है जो तुम मेरे जैसे तुच्छ जीव को मिली, नहीं तो हम में बात ही क्या थी…..तेरे दर पर जब भी हूँ आई मुङ कर जाने न दिया निराश होकर तूने कभी भी।

The image is provided by the author.

  (Please login to give a Curious Clap to your friend.)


 

SignUp to Participate Now! Win Certifiates and Prizes.

 

AADYA Parashar

8, VIVEK HIGH SCHOOL, Mohali, Punjab

Share your comment!

Login/Signup